Saturday, January 28, 2023
Home Daily Diary News दर्द की अनकही दास्तां - "बिखरेमोती"

दर्द की अनकही दास्तां – “बिखरेमोती”

 

मममता सोनी द्वारा लिखित बिखरे मोती आत्मकथात्मक उपन्यास भावों और संवेदनाओं से ओतप्रोत एक अलग भावभूमि को समेटे हुए एक संवेदनशील कहानी है। दो लोगों का करीब आना। अपनी मर्ज़ी से प्रेम विवाह और उसके बाद अपने अपने अहम के चलते अपने अपने रास्ते हो लेना कोई नई बात नहीं है। ऐसा हिंदी साहित्य की कहानियों उपन्यासों में गाहे बगाहे उदृत होता रहा है और कई बार पढ़ा भी गया है। ममता सोनी के इस उपन्यास में भी कहानी कुछ इस तरह ही शुरू होती है लेकिन बिखरे मोती की खास बात यह है कि यह तलाक के बाद संतानों के दर्द की कहानी भी है। यह कहानी पाठक को एक ऐसी यात्रा पर लेकर जाती है जहां वह स्वयं इस दर्द का हिस्सा बन जाता है। उसे अपने आसपास बहुत कुछ घटते हुए दिखता है। कोर्ट के माध्यम से बच्चों का बंटवारा, बेटी बाप के हिस्से और बेटे मां के हिस्से में। लेकिन यह बात उन मासूमों के समझ के परे थी। पिता के साए से महरूम दो बेटे और मां की ममता को छटपटाती बच्ची वक्त के साथ बड़े तो हुए लेकिन ऐसे गहरे ज़ख्मों को लेकर जो नासूर बनकर सालों सालों रिस्ते रहे। जिन पर किसी दवा ने काम नहीं किया।

यह उपन्यास उन युवाओं के लिए एक सबक हो सकता है जो जीवन की राहों पर किसी हमसफर की तलाश में हैं। उन्हें महसूस होगा की प्रेम विवाह के बाद अगर बच्चे पैदा हो जाएं तो भूलकर भी अलग होने का रास्ता ना लें। या जो भी फैसला करना हो वो संतान उत्पत्ति से पहले ही कर लें, तब वे इस तरह की भयावह परिणति से बच सकते हैं जिसे बिखरे मोती उपन्यास में ममता सोनी से समेटने की कोशिश की है।

ममता सोनी का ये पहला उपन्यास है और इस बात के लिए वे बधाई की पात्र है की उन्होंने जीवन की सच्चाई को बड़ी ही बेबाकी और ईमानदारी से पन्नों पर उतारा है। ऐसा साहस अमूमन हिंदी के साहित्यकारों में विरले ही देखने को मिलता है। जीवन के गहरे अनूभव में पगी ममता सोनी की भाषा में एक स्वत अविरल प्रवाह है, तो कहीं जीवन का दर्शन है, तो कहीं स्त्री पुरुष के प्रेम संबंधों को समझाने की कोशिश। कहीं कहीं भाषा काव्यात्मक भी हो गई है यह शायद उनके गजलगो होने का असर है।
बिखरे मोती उपन्यास का ऐसे समय में आना जब आज प्रेम संबंधों में तमाम चुनौतियां शामिल हो गई है और हम अपने आसपास प्रेम संबंधों में एक टूटन महसूस कर रहे हैं। ऐसे में बिखरे मोती उपन्यास जीवन को गहरे तल में जाकर समझने, बड़ी ग़लती को ना दोहराने और संबंधों में संतुलन बनाने का एक माध्यम हो सकता है। बिखरे मोती अमेज़न पर उपलब्ध है। जहां से यह उपन्यास ऑर्डर किया जा सकता है।

प्रकाशक: राही पब्लिकेशन
उपन्यासकार: ममता सोनी
मूल्य: 200 रुपए

RELATED ARTICLES

आजादी की‌ अमृत गाथा के 119वें संस्करण में जुटे लोगों ने महापुरुषों की स्मृति को नमन् कर सकारात्मक जीवन का लिया संकल्प

नई दिल्ली। भारत सरकार के आजादी का अमृत महोत्सव की कड़ी में 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर राम जानकी संस्थान, आरजेएस और आरजेएस पॉजिटिव...

गणतंत्र दिवस महोत्सव में दर्जन भर आरजेएसियन्स ने आगामी आजादी की अमृत गाथा आयोजित करने की घोषणा की।

नई दिल्ली। भारत सरकार के आजादी का अमृत महोत्सव की कड़ी में 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर राम जानकी संस्थान, आरजेएस और आरजेएस पॉजिटिव...

गणतंत्र दिवस पर आरजेएसिएन्स सह-आयोजकों‌ की आजादी की‌ अमृत गाथा का फरवरी 2023 एडिशन्स लांच

नई दिल्ली।‌अगले वित्त वर्ष 2023 के लिए आम बजट या कहें‌ केंद्रीय बजट 2023 वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी को पेश करेंगी. राम जानकी...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

आजादी की‌ अमृत गाथा के 119वें संस्करण में जुटे लोगों ने महापुरुषों की स्मृति को नमन् कर सकारात्मक जीवन का लिया संकल्प

नई दिल्ली। भारत सरकार के आजादी का अमृत महोत्सव की कड़ी में 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर राम जानकी संस्थान, आरजेएस और आरजेएस पॉजिटिव...

गणतंत्र दिवस महोत्सव में दर्जन भर आरजेएसियन्स ने आगामी आजादी की अमृत गाथा आयोजित करने की घोषणा की।

नई दिल्ली। भारत सरकार के आजादी का अमृत महोत्सव की कड़ी में 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर राम जानकी संस्थान, आरजेएस और आरजेएस पॉजिटिव...

गणतंत्र दिवस पर आरजेएसिएन्स सह-आयोजकों‌ की आजादी की‌ अमृत गाथा का फरवरी 2023 एडिशन्स लांच

नई दिल्ली।‌अगले वित्त वर्ष 2023 के लिए आम बजट या कहें‌ केंद्रीय बजट 2023 वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी को पेश करेंगी. राम जानकी...

युवामंथन संस्थानो में G20 आयोजनो के लिए कैंपस शेरपा बनाने की तलाश कर रहा है|

इस समय पूरे विश्व में भारत का एक अलग ही डंका गूँज रहा है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत दिन प्रतिदिन नई...

Recent Comments