Saturday, January 28, 2023
Home Daily Diary News जाने क्यों है यूपी जिला गोरखपुर के बांसगांव ब्लॉक पर एक दशक...

जाने क्यों है यूपी जिला गोरखपुर के बांसगांव ब्लॉक पर एक दशक से शिवाजी सिंह का दबदबा कायम

 

 

अमित त्रिपाठी की रिपोर्ट(गोरखपुर, यूपी) : पंचायत चुनाव खत्म तो हो गए हैं पर सबकी निगाहें अब अपने नए जिला पंचायत, ब्लॉक प्रमुख के चुने जाने पर टिकी हैं। हर क्षेत्र से इन पदों के लिए कई नए दावेदार अपनी दावेदारी ठोकते नजर आ रहे हैं, तो इन पदों पर पहले से अपनी पैठ बनाएं कुछ धुरंधर फिर से उस पद को हासिल करने के लिए मैदान में हैं। हम बात बांसगांव ब्लॉक प्रमुख पद के लिए होने वाले चुनाव की कर रहे हैं। जहां के सम्मानित प्रतिनिधि शिवाजी सिंह के परिवार का पिछले 10 सालों से दबदबा रहा है। सीट सामान्य हो या फिर अनुसुचित, जीत उसी की होती है जो शिवाजी सिंह का खास होता है। शिवाजी सिंह पेशे से एडवोकेट हैं, और पूर्व में भारत सरकार के रेलवे विभाग में उन्होंने सलाहकार की भी भूमिका निभाई है। और गोरखपुर-महराजगंज के पूर्व कोऑपरेटिव डॉयरेक्टर भी रह चुके हैं। शिवाजी का राजनीति से गहरा नाता रहा है, पूर्व में सहजनवा विधानसभा का चुनाव भी वे लड़ चुके हैं, हालांकि उन्हें हार का सामना करना पड़ा, पर उन्होनें हार नहीं मानी। साल 2010 से लेकर अबतक उन्ही के परिवार का या उनका कोई करीबी ही बांसगांव से ब्लॉक प्रमुख होता आया है। साल 2010 में महिला आरक्षित सीट होने पर उनकी पत्नी कुसुम सिहं ने ब्लॉक प्रमुख का चुनाव जीता, तो वहीं 2015 में अनुसूचित सीट होने पर शिवाजी सिंह द्वारा मैदान में उतारी गई प्रत्याशी राधिका देवी ने परचम लहराया, जो अब तक अपने क्षेत्र की कमान संभाल रही हैं, हालांकि अब सबकी निगाहें इस बार के चुनाव पर टिकी हैं कि, क्योंकि इस बार भी यहां की सीट अनुसूचित जाति महिला के लिए आरक्षित है। ऐसे में देखने वाली बात होगी कि शिवाजी सिंह का दबदबा इस बार भी यूहीं कायम रहता है, या उनके इस विजय रथ पर कोई सेंध लगा पता है। पर एक बात तो तय हैं जितनी अच्छी छवि के साथ शिवाजी सिंह का कुनबा अपने ब्लॉक का विकास करता आया है, इस बार भी जीत उनके ही किसी समर्थित प्रत्याशी की मानी जा रही है।

RELATED ARTICLES

आजादी की‌ अमृत गाथा के 119वें संस्करण में जुटे लोगों ने महापुरुषों की स्मृति को नमन् कर सकारात्मक जीवन का लिया संकल्प

नई दिल्ली। भारत सरकार के आजादी का अमृत महोत्सव की कड़ी में 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर राम जानकी संस्थान, आरजेएस और आरजेएस पॉजिटिव...

गणतंत्र दिवस महोत्सव में दर्जन भर आरजेएसियन्स ने आगामी आजादी की अमृत गाथा आयोजित करने की घोषणा की।

नई दिल्ली। भारत सरकार के आजादी का अमृत महोत्सव की कड़ी में 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर राम जानकी संस्थान, आरजेएस और आरजेएस पॉजिटिव...

गणतंत्र दिवस पर आरजेएसिएन्स सह-आयोजकों‌ की आजादी की‌ अमृत गाथा का फरवरी 2023 एडिशन्स लांच

नई दिल्ली।‌अगले वित्त वर्ष 2023 के लिए आम बजट या कहें‌ केंद्रीय बजट 2023 वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी को पेश करेंगी. राम जानकी...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

आजादी की‌ अमृत गाथा के 119वें संस्करण में जुटे लोगों ने महापुरुषों की स्मृति को नमन् कर सकारात्मक जीवन का लिया संकल्प

नई दिल्ली। भारत सरकार के आजादी का अमृत महोत्सव की कड़ी में 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर राम जानकी संस्थान, आरजेएस और आरजेएस पॉजिटिव...

गणतंत्र दिवस महोत्सव में दर्जन भर आरजेएसियन्स ने आगामी आजादी की अमृत गाथा आयोजित करने की घोषणा की।

नई दिल्ली। भारत सरकार के आजादी का अमृत महोत्सव की कड़ी में 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर राम जानकी संस्थान, आरजेएस और आरजेएस पॉजिटिव...

गणतंत्र दिवस पर आरजेएसिएन्स सह-आयोजकों‌ की आजादी की‌ अमृत गाथा का फरवरी 2023 एडिशन्स लांच

नई दिल्ली।‌अगले वित्त वर्ष 2023 के लिए आम बजट या कहें‌ केंद्रीय बजट 2023 वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी को पेश करेंगी. राम जानकी...

युवामंथन संस्थानो में G20 आयोजनो के लिए कैंपस शेरपा बनाने की तलाश कर रहा है|

इस समय पूरे विश्व में भारत का एक अलग ही डंका गूँज रहा है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत दिन प्रतिदिन नई...

Recent Comments