Saturday, January 28, 2023
Home Daily Diary News त्रिपुरा में 9 और 10 दिसंबर 2022 को अष्टलक्ष्मी संत विखा सम्मेलन...

त्रिपुरा में 9 और 10 दिसंबर 2022 को अष्टलक्ष्मी संत विखा सम्मेलन का आयोजन

त्रिपुरा में 9 और 10 दिसंबर 2022 को अष्टलक्ष्मी संत विखा सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है और यह मिलन वसुधैव कुटुम्बकम का प्रतीक बनने जा रहा है। त्रिपुरा के उपमुख्यमंत्री श्री विष्णु देव वर्मा ने शनिवार को दिल्ली के कांस्टीट्यूशन क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता में कहा कि यह बैठक उत्तर पूर्व के राज्यों में आध्यात्मिकता का संचार करेगी.
यह सम्मेलन 9-10 दिसंबर 2022 को अगरतला, त्रिपुरा में त्रिपुरा सरकार के पर्यटन विभाग, अमरवानी इवेंट फाउंडेशन और इंडस मून प्राइवेट लिमिटेड के सहयोग से आयोजित किया जा रहा है। यह सम्मेलन कोल्हापुर के प्रथम विश्व साहित्य सम्मेलन का भव्य प्रतिरूप है और इस सम्मेलन के माध्यम से उत्तर पूर्व की अष्टलक्ष्मी जागर आयोजित की जाएगी। सर्वे भवन्तु सुखिना सुर्वे संतु निरामय संदेश इस सभा के माध्यम से दिया जाएगा, इस अवसर पर अध्यक्ष हरिभक्त परायण न्यायमूर्ति डॉ. मदन महाराज गोसावी ने बताया।इस सम्मेलन में पूर्वोत्तर राज्यों के संत साहित्य के विद्वान भाग ले रहे हैं तथा कुछ राज्यों के मुख्यमंत्री एवं अन्य मंत्री मुख्य अतिथि के रूप में सम्मेलन में भाग लेंगे। सम्मेलन का स्वरूप संत विचारों पर संगोष्ठी, विदेशी बुद्धिजीवियों द्वारा अध्यात्म पर संगोष्ठी और उत्तर पूर्वी राज्यों की लोक कलाओं की प्रस्तुति होगी.सम्मेलन की अध्यक्षता त्रिपुरा के चित्त महाराज करेंगे । प्रो. डॉ. प्रकाश खंडगे ने अपने स्वागत भाषण में कोल्हापुर में होने वाले प्रथम सार्वभौम संत साहित्य सम्मेलन की पृष्ठभूमि और अगरतला में होने वाले सम्मेलन की रूपरेखा के बारे में बताया और उपस्थित पत्रकारों का आभार व्यक्त किया.
डॉ. मदन महाराज गोसावी ने सुझाव दिया कि भारत में अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचने के लिए मीडिया को पूरा सहयोग करना चाहिए कि कोरोना के भयानक संकट के बाद मानव जीवन में विश्वास बढ़ाने के लिए संतों का चिंतन आवश्यक है।

कार्यक्रम का संक्षिप्त कार्यक्रम इस प्रकार है:
दिनांक 9 दिसंबर 2022
उद्घाटन सत्र-मुख्य अतिथि-
उप मुख्यमंत्री (त्रिपुरा सरकार) श्री जिष्णु देव वर्मा
अध्यक्ष – श्री चित्त महाराज, महंत, शांति काली मंदिर
कार्यकारी अध्यक्ष – डॉ. मदन गोसावी, सदस्य, एनसीएलटी।
सत्र I – भारत के उत्तर पूर्वी राज्यों में आध्यात्मिक परंपराएं और प्रथाएं।
सत्र II भारत के उत्तर-पूर्वी राज्यों की पारंपरिक जड़ों का पता लगाना – यौगिक, तांत्रिक और चिकित्सा परंपराओं का इतिहास।
उत्तर पूर्व क्षेत्रीय सांस्कृतिक समिति
NEZCC द्वारा आमंत्रित मंडलों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम)।
दिनांक 10 दिसंबर 2022
सत्र 3 – पूर्वोत्तर भारत – तीर्थाटन और पर्यटन के अवसर
सत्र 4 – पड़ोसी देशों के छात्र अपनी सनातन जड़ों का दृश्य प्रस्तुत करेंगे ।
सत्र 5 – उत्तर पूर्व भारत की मान्यताओं और परंपराओं को चुनौती।
समापन समारोह में राज्य और राष्ट्रीय स्तर के गणमान्य लोग शामिल हुए।
उत्तर पूर्व क्षेत्रीय सांस्कृतिक समिति
(NEZCC) बोर्डों द्वारा आमंत्रित सांस्कृतिक कार्यक्रम।

इस कार्यक्रम में डॉ. अगरतला, सौरीश देवबर्मन, कल्याण आश्रम के श्री संदीपजी कवीश्वर, मणिपुर जनजातीय विश्वविद्यालय की प्रो. सुखदेबा शर्मा, बेंगलुरु से गंगाधर कृष्णन, मुंबई से डॉ. श्रीराम नरेनस्वामी, अहमदाबाद के रामी निरंजन देसाई, दिल्ली के प्रफुल्ल केतकर आदि जैसे प्रतिष्ठित व्यक्तियों के व्याख्यान आयोजित किए गए हैं।अष्टलक्ष्मी संत विचार सम्मेलन पहला विश्व संत साहित्य सम्मेलन था । यह अप्रैल में कोल्हापुर, महाराष्ट्र में आयोजित किया गया था। इस बैठक में त्रिपुरा के उपमुख्यमंत्री श्री जिष्णु देव वर्मा उपस्थित थे। इस बैठक से प्राप्त अभूतपूर्व उत्साह और विभिन्न बुद्धिजीवियों द्वारा व्यक्त किए गए विचारों को ध्यान में रखते हुए श्री जिष्णु देव वर्मा जी के मन में भी उत्तर पूर्व क्षेत्र में इस तरह की बैठक आयोजित करने का विचार आया और उनकी पहल पर अब यह बैठक हो रही है। दिसंबर में अगरतला में आयोजित किया गया।

RELATED ARTICLES

आजादी की‌ अमृत गाथा के 119वें संस्करण में जुटे लोगों ने महापुरुषों की स्मृति को नमन् कर सकारात्मक जीवन का लिया संकल्प

नई दिल्ली। भारत सरकार के आजादी का अमृत महोत्सव की कड़ी में 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर राम जानकी संस्थान, आरजेएस और आरजेएस पॉजिटिव...

गणतंत्र दिवस महोत्सव में दर्जन भर आरजेएसियन्स ने आगामी आजादी की अमृत गाथा आयोजित करने की घोषणा की।

नई दिल्ली। भारत सरकार के आजादी का अमृत महोत्सव की कड़ी में 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर राम जानकी संस्थान, आरजेएस और आरजेएस पॉजिटिव...

गणतंत्र दिवस पर आरजेएसिएन्स सह-आयोजकों‌ की आजादी की‌ अमृत गाथा का फरवरी 2023 एडिशन्स लांच

नई दिल्ली।‌अगले वित्त वर्ष 2023 के लिए आम बजट या कहें‌ केंद्रीय बजट 2023 वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी को पेश करेंगी. राम जानकी...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

आजादी की‌ अमृत गाथा के 119वें संस्करण में जुटे लोगों ने महापुरुषों की स्मृति को नमन् कर सकारात्मक जीवन का लिया संकल्प

नई दिल्ली। भारत सरकार के आजादी का अमृत महोत्सव की कड़ी में 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर राम जानकी संस्थान, आरजेएस और आरजेएस पॉजिटिव...

गणतंत्र दिवस महोत्सव में दर्जन भर आरजेएसियन्स ने आगामी आजादी की अमृत गाथा आयोजित करने की घोषणा की।

नई दिल्ली। भारत सरकार के आजादी का अमृत महोत्सव की कड़ी में 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर राम जानकी संस्थान, आरजेएस और आरजेएस पॉजिटिव...

गणतंत्र दिवस पर आरजेएसिएन्स सह-आयोजकों‌ की आजादी की‌ अमृत गाथा का फरवरी 2023 एडिशन्स लांच

नई दिल्ली।‌अगले वित्त वर्ष 2023 के लिए आम बजट या कहें‌ केंद्रीय बजट 2023 वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी को पेश करेंगी. राम जानकी...

युवामंथन संस्थानो में G20 आयोजनो के लिए कैंपस शेरपा बनाने की तलाश कर रहा है|

इस समय पूरे विश्व में भारत का एक अलग ही डंका गूँज रहा है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत दिन प्रतिदिन नई...

Recent Comments