Tuesday, April 16, 2024
Home Entertainment सुपर स्टार खेसारीलाल यादव की भोजपुरी फिल्म " रंग दे बसंती "...

सुपर स्टार खेसारीलाल यादव की भोजपुरी फिल्म ” रंग दे बसंती ” पर सेंसर बोर्ड अध्यक्ष का बिना कारण एतराज , जानिए क्या है वजह

निर्माता रौशन सिंह, सह निर्माता शर्मिला आर सिंह,निर्देशक प्रेमांशु सिंह और सुपर स्टार खेसारीलाल यादव की बहुप्रतीक्षित फिल्म “रंग दे बसंती” 22 मार्च को पेन इंडिया रिलीज होना है, लेकिन उससे पहले फिल्म के टाइटल पर सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने एतराज जाता दिया है। खेसारीलाल यादव की भोजपुरी फिल्म ‘रंग दे बसंती’ को अपने शीर्षक को लेकर सेंसर बोर्ड अध्यक्ष से परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। फिल्म के निर्माता रौशन सिंह ने बताया कि उन्हें सीबीएफसी से एक कॉल आया था, जिसमें पहले रिलीज हुई हिंदी फिल्म के समान शीर्षक होने के कारण फिल्म के शीर्षक में बदलाव का अनुरोध किया गया। उन्होंने कहा कि मुझसे रवि नाम के किसी व्यक्ति ने संपर्क किया था, जिसने मेरी फिल्म के शीर्षक में बदलाव का अनुरोध किया था।
रौशन सिंह ने बताया कि फिल्म की स्क्रीनिंग हो चुकी है, और हमें यूए प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए आवश्यक कुछ कट्स के बारे में सूचित किया गया।जो बोर्ड के ऑफिसियल वेबसाइट पर भी दर्ज है। उन्होंने कहा कि जब हमने इस बाबत जानकारी के लिए सेंसर बोर्ड कार्यालय में संपर्क किया तो बताया गया कि आपका मामला सेंसर बोर्ड अध्यक्ष के कार्यालय से लंबित है।जो ऑफिसियल वेबसाइट पर भी दर्ज है।मैंने 5 मार्च को एक पत्र के माध्यम से इसकी जानकारी चाही मगर कारण क्या है अभी तक बताया नही जा रहा है।और 8 मार्च को मुझे फोन कर फ़िल्म का शिर्षक बदलने का अनुरोध किया गया।
निर्माता रौशन सिंह ने बताया कि यदि जल्द ही कोई प्रगति नहीं हुई, तो हम अपने विकल्प तलाशेंगे। मैं शीर्षक बदलने को तैयार नहीं हूं क्योंकि यह अव्यावहारिक होगा। शीर्षक पूरी तरह मेरा है, और यह भोजपुरी में है। उन्होंने कहा कि यह हैरान करने वाली बात है कि हमें हिंदी फिल्म के शीर्षक की समानता के संबंध में एक कमजोर बहाना प्रदान किया जा रहा है, उन्होंने बताया कि हाल ही में, ‘कभी खुशी कभी गम’ नामक एक भोजपुरी फिल्म को सेंसर बोर्ड द्वारा मंजूरी दे दी गई थी।
निर्माता रौशन सिंह ने बताया कि मेरी फिल्म के मामले में जानबूझ कर प्रक्रिया में देरी की जा रही है।उन्होंने हिंदी फिल्म ‘रंग दे बसंती’ में सेंसर बोर्ड अध्यक्ष प्रसून जोशी की भागीदारी के कारण शीर्षक परिवर्तन के लिए दबाव डालने का आरोप लगाया है।
विदित हो कि फिल्म का धमाकेदार ट्रेलर आउट हो चुका है।और फ़िल्म 22 मार्च को प्रदर्शित होने को तैयार है।जिसका प्रचार प्रचार के साथ ही बुकिंक भी प्रारंभ है।
इस फिल्म में खेसारीलाल यादव के साथ रति पांडेय और डायना खान मुख्य भूमिका में हैं। उनके अलावा अमिताभ भट्टाचार्य, फिरोज खान और मास्टर ऋषभ यादव राज प्रेमी, मीर सरवर, अमित तिवारी, समर्थ चतुर्वेदी, प्रकाश जैश, ज्योति कलश, संजय महानंद, रीना रानी, श्रद्धा नवल, सुजान सिंह, सोनू पांडेय, रितु चौहान, रिंकू भारती, नेहा पाठक, खुशबू यादव, संजय वर्मा, अखिलेश कुमार अक्की, सूर्या द्विवेदी, निकिता भारद्वाज और चाहत भी प्रमुख भूमिका में हैं। फिल्म की कहानी मनोज कुशवाहा ने लिखी है। संगीतकार ओम झा है। गीतकार प्यारेलाल यादव ,अरविंद तिवारी, राकेश निराला, डॉ कृष्णा एन शर्मा और सत्य सावरकर हैं। पीआरओ शैलेश गिरि,उषा मिश्रा एवं रंजन सिन्हा हैं। डीओपी वासु, कोरियोग्राफर रिकी गुप्ता, कला राजीव शर्मा का है।

RELATED ARTICLES

फरीदाबाद में ‘रक्त यज्ञ ‘ फिल्म का पोस्टर रिलीज किया गया

फरीदाबाद के होटल सेंट्रल व्यू में रविवार 14 अप्रैल 2024 को वेब सीरीज रक्त यज्ञ- द गेम ऑफ ब्लड का पोस्टर ज्ञानचंद भड़ाना, रघुवीर...

पेप्सिको के गेटोरेड के ‘ टर्फ फाउंडर ‘ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फिट इंडिया मोमेंट को मिल रहा बल

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में, शारीरिक गतिविधियों के लिए लोगों के पास समय और खेलकूद के लिए स्थान, दोनों ढूंढना मुश्किल हो गया...

बाबा साहेब ने समाज से बदला लेने का नहीं , समाज में बदलाव लाने का रास्ता चुना – सुनील देवधर

  राजधानी दिल्ली में माय होम इंडिया के तत्वावधान में भारत रत्न डॉ भीमराव अंबेडकर जी की जयंती मनाई गई। इस अवसर पर मुख्य वक्ता...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

फरीदाबाद में ‘रक्त यज्ञ ‘ फिल्म का पोस्टर रिलीज किया गया

फरीदाबाद के होटल सेंट्रल व्यू में रविवार 14 अप्रैल 2024 को वेब सीरीज रक्त यज्ञ- द गेम ऑफ ब्लड का पोस्टर ज्ञानचंद भड़ाना, रघुवीर...

पेप्सिको के गेटोरेड के ‘ टर्फ फाउंडर ‘ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फिट इंडिया मोमेंट को मिल रहा बल

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में, शारीरिक गतिविधियों के लिए लोगों के पास समय और खेलकूद के लिए स्थान, दोनों ढूंढना मुश्किल हो गया...

बाबा साहेब ने समाज से बदला लेने का नहीं , समाज में बदलाव लाने का रास्ता चुना – सुनील देवधर

  राजधानी दिल्ली में माय होम इंडिया के तत्वावधान में भारत रत्न डॉ भीमराव अंबेडकर जी की जयंती मनाई गई। इस अवसर पर मुख्य वक्ता...

Revolutionizing Agriculture with ” बजरंगबाण”: A Breakthrough in Agro- Waste Management

  In the pursuit of progress, collaboration between industry and academia is paramount, especially when aimed at solving problems specific to the country. By combining...

Recent Comments